विद्रोही नायक मुस्लिम था तो NSD के समारोह में नहीं होगा उत्पल दत्त का नाटक तितुमीर!

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
ख़बर Published On :


‘तितुमीर’ एक मुस्लिम किसान था जिसने अंग्रेज़ी शासन में हुए किसान विद्रोह विद्रोह का नेतृत्व किया था। बग़ावत की इस कहानी पर मशहूर नाटककार और फ़िल्म अभिनेता उत्पल दत्त ने नाटक लिखा था, लेकिन केंद्र सरकार के अनुदान यानी जनता के पैसे से चलने वाले देश के सबसे प्रतिष्ठित थिएटर ट्रेनिंग संस्थान यानी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय द्वारा आयोजित होने जा रहे रंग महोत्सव में इस नाटक को करने के लिए हावड़ा की एक नाट्य संस्था को भेजे गये आमंत्रण को वापस ले लिया है। जनवादी लेखक संघ ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है। पढ़िए ये बयान–

इस वर्ष 14 से 26 फरवरी तक चलने वाले 23वें भारत रंग महोत्सव में उत्पल दत्त लिखित नाटक ‘तितुमीर’ की प्रस्तुति के आमंत्रण को राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय द्वारा जिस तरह अचानक वापस लिया गया, वह इस महोत्सव की साल-दर-साल घटती जा रही प्रतिष्ठा पर एक और धब्बा है।

उत्पल दत्त का यह नाटक औपनिवेशिक बंगाल में हुए एक किसान विद्रोह की कहानी कहता है जिसका नायक तितुमीर नामक एक मुसलमान किसान था। औपनिवेशिक सरकार के ख़िलाफ़ बग़ावत की कहानी कहते हुए यह नाटक तितुमीर जैसे एक अचर्चित स्वाधीनता सेनानी को तो सामने लाता ही है, उस सांप्रदायिक सद्भाव और एका को भी रेखांकित करता है जो आज़ादी के लिए लड़ी गई छोटी-बड़ी लड़ाइयों की सबसे बड़ी ताक़त थी।

ग़ौरतलब है कि इस 23वें भारत रंग महोत्सव की थीम है, स्वाधीनता संग्राम के गुमनाम नायक। इसी थीम को देखते हुए राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने हावड़ा की नाट्य संस्था ‘परिबर्तक’ को इस नाटक के मंचन के लिए आमंत्रित किया होगा, लेकिन शायद समय रहते उन्हें यह बता दिया गया कि औपनिवेशिक सरकार के विरोध में मौजूदा सरकार के विरोध की ध्वनि सुनी जा सकती है, साथ ही गुमनाम नायक का मुसलमान होना और नाटक में सांप्रदायिक एका का संदेश मुखर होना भी आज के हुक्मरान को नागवार गुज़रेगा। नाटक के निर्देशक जयराज भट्टाचार्जी ने एक बयान में यह बताया भी है कि पश्चिम बंगाल में इस नाटक के मंचन के कई मौक़ों पर आरएसएस-भाजपा ने विरोध-प्रदर्शन किए हैं। इन सबको देखते हुए समझा जा सकता है कि रा.ना.वि. ने एक व्यर्थ-से तकनीकी कारण की ओट लेकर इस प्रस्तुति के आमंत्रण को क्यों ख़ारिज किया।

नाटक जैसी प्रतिरोध की विधा को व्यवस्था और सरकार के लिए नखदंतहीन, अहानिकर और पालतू बनाने का रवैया हर दृष्टि से निंदा के लायक़ है। यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि रा.ना.वि. इस रवैये की एक-के-बाद-एक मिसालें पेश कर रहा है। उक्त मंचन का रोका जाना कोई अपवाद नहीं है।

जनवादी लेखक संघ ‘तितुमीर’ के मंचन का आमंत्रण वापस लिए जाने के इस क़दम की निंदा करता है और आमंत्रण को बहाल रखे जाने की माँग करता है।

 

जनवादी लेखक संघ का बयान.


Related