तिरंगा : पत्रकार धरने पर, बरखा नए प्रोजेक्‍ट पर लेकिन निशाने पर आ गया The Wire

मीडिया विजिल मीडिया विजिल
मीडिया Published On :


सेलिब्रिटी पत्रकार बरखा दत्‍त कांगेस के नेता और अपने पूर्व मीडिया संस्‍थान के मालिक कपिल सिब्‍बल व उनकी पत्‍नी पर मुकदमा करेंगी। पिछले कुछ दिनों के दौरान कपिल सिब्बल के टीवी चैनल तिरंगा टीवी की सलाहकार संपादक बरखा दत्त ने सिब्बल और उनकी पत्नी प्रमिला पर कुछ गंभीर आरोप लगाए हैं। इन आरोपों पर सिब्‍बल दंपत्ति का पक्ष दि वायर ने छाप दिया है जिसके चलते बरखा उसके संपादक सिद्धार्थ वरदराजन से भी नाराज हो गई हैं।

बरखा दत्‍त ने तिरंगा चैनल के करीब 200 कर्मचारियों की तनख्वाह रोके जाने और उन्हें बिना उचित मुआवजा दिए नौकरी से निकालने का आरोप सिब्‍बल दंपत्ति पर लगाया था। बरखा दत्त ने अपने ट्वीट में लिखा था:

बरखा ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा था कि इस टीवी चैनल से जुड़े कई लोगों ने यहां आने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी, लेकिन चैनल बंद होने को लेकर पति-पत्नी ने स्टाफ से बात तक नहीं की, जबकि सभी लाइव प्राग्रामिंग को 48 घंटे के लिए रद्द कर दिया गया।

इन आरोपों पर सिब्‍बल दंपत्ति ने अपना पक्ष दि वायर वेबसाइट पर रखा और कहा कि बरखा झूठ बोल रही हैं, जून तक का सारा भुगतान किया जा चुका है। इस खबर के मुताबिक यह चैनल शुरू से ही वित्‍तीय संकट से जूझ रहा था और सिब्‍बल दंपत्ति ने इसे पिछले साल सितंबर में ही बंद करने का फैसला ले लिया था।

बरखा इस फैसले के खिलाफ थीं और उन्‍हीं के कहने पर काम चालू रखा गया लेकिन स्थिति बिगड़ती चली गई। दि वायर ने प्रमिला सिब्‍बल के हवाले से लिखा है कि बरखा को अनुशासनात्‍मक आधारों पर निकाला गया और वैसे भी सितंबर 2019 में उनका अनुबंध समाप्‍त हो रहा था।

वायर पर सिब्‍बल का पक्ष आने से बरखा दत्‍त और तिरंगा टीवी के कुछ पत्रकार उसके संपादक सिद्धार्थ वरदराजन से नाराज़ हैं।

बरखा ने आरोप लगाया था कि स्टाफ के अधिकारों के लिए खड़े होने के चलते उन्हें मानहानि की धमकी दी गई और वे ईमेल डिलीट करने के लिए कहा गया जहां उन्होंने सिब्बल और विजय माल्या के बीच तुलना की थी। अब बरखा इस मामले को अदालत तक ले जाने की बात कह रही हैं। ताज़ा ट्वीट में उन्‍होंने लिखा है:

कर्मचारियों से गाली-गलौज संबंधी बरखा की शिकायत पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने संज्ञान लेते हुए ट्विटर पर जवाब दिया था और बरखा से इस बारे में विस्तृत जानकारी ईमेल करने को कहा था।

इस बीच बरखा ने यह भी सूचना साझा की थी कि कपिल सिब्बल ने बाउंसर भेज कर अपनी बकाया सैलरी की मांग को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन में बैठे पत्रकारों और स्टाफ को डराया-धमकाया है। चैनल में काम करने वाली पत्रकार अंतरा मुद्गल ने चैनल के कार्यालय में बैठे दो बाउंसरों की तस्वीरें ट्वीट की थीं।

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले लॉन्च किया गया यह चैनल पूरी तरह से प्रमिला सिब्बल द्वारा फंड किया जा रहा था। सिब्बल ने इसमें काफी धन लगाया था और सूत्रों के मुताबिक चैनल को लंबे समय तक चलाने के लिए विभिन्न स्रोतों से 300 करोड़ रुपये जमा करने की बात हुई थी।

फिलहाल स्थिति यह है कि चैनल बंद हो चुका है और बरखा दत्‍त मुकदमे की धमकी देकर नए प्रोजेक्‍ट में लग चुकी हैं। इस प्रोजेक्‍ट की सूचना उन्‍होंने आज ही ट्विटर पर दी है।

वी द विमेन नाम का यह प्रोजेक्‍ट फेसबुक से प्रायोजित है आर बरखा इसके तहत भोपाल में एक कार्यक्रम करने जा रही हैं। यह प्रोजेक्‍ट बरखा की अपनी कंपनी बरखा दत्‍त मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के तहत चलता है।